शौक़-ए-तेज़-रवी है कि आसमान बरहम है।

Poem
108
92617